हर मुसलमान को गरीब की मदद करनी चाहिए

टेढ़ागाछ, एक संवाददाता। रमजान के अंतिम जुमा की नमाज शुक्रवार को टेढ़ागाछ प्रखंड क्षेत्र मुख्य हाट बाजार एव आसपास के क्षेत्रों के जामा मस्जिद में अकीदत के साथ अदा की गई।

नमाज के दौरान नमाजियों ने खुदा से गुनाहों की माफी मांगी। अलविदा जुमा की नमाज प्रखंड क्षेत्र की प्रमुख जामा मस्जिद में रोजेदारों ने अकीदत के साथ अदा किया। मुख्य रूप से फुलवरिया हाट जमा मस्जिद,टेढ़ागाछ जामा मस्जिद, झाला जमा मस्जिद, फुलवारी जामा मस्जिद, डाकपोखर जामा मस्जिद, कालपीर जमा मस्जिद ,हाटगांव जमा मस्जिद झाला जमा मस्जिद,घवेली जामा मस्जिद, भोरहा जमा मस्जिद, चिल्हानियां जामा मस्जिद, हवाकोल जमा मस्जिद, मटियारी जमा मस्जिद,बैगना जमा मस्जिद,खनियाबाद जमा मस्जिद, झुनकी मुशहरा जमा मस्जिद सहित प्रखंड के सभी पंचायत के सभी जमा मस्जिद में लोगों ने नमाज अदा की।

अलविदा जुमे की नमाज से पहले अपने तकरीर में जामा मस्जिद के ईमाम जफर ने कहा कि हर मुसलमान को जकात, फितरा एवं सदका अदा कर समाज के गरीब लोगों की मदद करनी चाहिए। यह दोजख से निजात पाने का असरा चल रहा है। अल्लाह की मर्जी के मुताबिक काम करें। इंसान को चाहिए कि खुशदिल से कुरान को खुद भी पढ़ें और अपने बच्चों को भी पढ़ाएं और उस पर अमल करें। इस अवसर पर स्थानीय प्रशासन एवं एसएसबी के जवानों द्वारा कड़ी सुरक्षा चौकसी बरती गई थी। क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर गंगा-जमुनी तहजीब का नजारा भी देखने को मिला।