यूपी: मुस्लिमों को टिकट न देने पर बीजेपी में मचा घमासान

नई दिल्ली

यूपी विधानसभा चुनावों में किसी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट न देने पर बीजेपी के अंदर ही घमासान मच गया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह से सवाल उठाए जाने के बाद अब मोदी सरकार के दो और मंत्रियों ने अपनी ही पार्टी के फैसले पर सवाल खड़े किए हैं। केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा है कि बीजेपी ने यूपी चुनाव में किसी मुस्लिम प्रत्याशी को नहीं उतारकर ‘बड़ी भूल’ की है। वहीं केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अगर मुसलमानों को टिकट दिया होता तो अच्छा होता।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने एक टीवी चैनल से कहा, मुझे सच में इस बात का दुख है कि हम किसी मुस्लिम प्रत्याशी को चुनाव मैदान में नहीं उतार सके। मैंने इस बारे में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य से बात की थी कि किस प्रकार मुसलमानों को विधान सभा चुनाव में लाया जाए। उमा भारती ने यह भी कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सही कहा था कि हम मुसलमानों को टिकट दे सकते थे।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती की टिप्पणी पर उनकी ही पार्टी के नेता विनय कटियार ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, ‘जब मुसलमान हमारे लिए वोट ही नहीं करते तो हम उन्हें टिकट क्यों दें?’ विनय कटियार लगातार हाशिये पर चल रहे हैं और वो ऐसी बयानबाज़ी लगातार कर रहे हैं।
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सोमवार को कहा कि यूपी चुनाव में बीजेपी ने अगर मुसलमानों को टिकट दिया होता तो अच्छा होता। नकवी ने हालांकि कहा कि बीजेपी समाज के प्रत्येक वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलने में विश्वास करती है और राज्य में पार्टी की सरकार बनने पर समुदाय का पूरा ध्यान रखा जाएगा। नकवी ने कहा कि एनडीए सरकार के प्रदर्शन को इस आधार पर नहीं आंका जाना चाहिए कि उसने मुसलमानों को टिकट की पेशकश नहीं की।

केंद्रीय मंत्री नकवी ने कहा, बीजेपी समाज के सभी वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलने में विश्वास करती है। हमने केंद्र सरकीर में सभी के सहयोग से सरकार बनाई हा। इसी प्रकार से हम यूपी में भी जीत कर सरकार बनाएंगे। बीजेपी मंत्रियों और नेताओं के मुसलमानों को लेकर दिए गए बयान से साफ ज़ाहिर होता है कि कहीं न कहीं बीजेपी में एकतरफा फैसला लिया जा रहा है।