यूक्रेन से भारतीयों की वापसी का चुनाव पर कितना असर? अमित शाह ने दिया जवाब

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को दावा किया कि भारत सरकार जनवरी महीने से ही यूक्रेन की स्थिति पर नजर रखे हुए थी और युद्धग्रस्त देश से भारतीयों की सफल निकासी का पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में सकारात्मक असर होगा।

भाजपा मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि सरकार ने 15 फरवरी को ही यूक्रेन में रह रहे भारतीयों के लिए परामर्श जारी कर दिया था। मालूम हो कि रूस ने 24 फरवरी को यूक्रेन में सैन्य कार्रवाई शुरु कर दी थी। उन्होंने कहा कि सरकार यूक्रेन की स्थिति पर जनवरी महीने से ही नजर रखे हुए है।

उन्होंने कहा, ”तेरह हजार से अधिक नागरिक भारत पहुंच चुके हैं और अभी कई विमान भारतीयों को लेकर आने वाले हैं। इसका चुनावों के साथ ही जनता पर भी सकारात्मक असर हुआ है।” भारत सरकार ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए ”ऑपरेशन गंगा” चलाया है।

शाह ने कहा, ”सरकार ने रूसी भाषा बोलने वाले दलों को यूक्रेन से सटे देशों में तैनात किया है और एक नियंत्रण कक्ष भी स्थापित किया है। हम चार मार्च तक 16,000 नागरिकों को सुरक्षित वापस लाने में सफल रहे हैं।”

उल्लेखनीय है कि सरकार ने यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों से कहा था कि वह किसी भी तरह यूक्रेन की सीमा से लगे देशों में पहुंचने की कोशिश करें। सरकार रोमानिया, हंगरी, स्लोवाकिया और पोलैंड से भारतीय नागरिकों को हवाई मार्ग से स्वदेश ला रही है।

उत्तर प्रदेश में सात चरणों के चुनाव के तहत सात मार्च को आखिरी चरण का मतदान होना है। पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी 10 मार्च को मतगणना होनी है।