वक्फ की जमीनों पर सत्ताधारी नेताओं का कब्ज़ा: ओवैसी

अब्दुल अज़ीज़

बहराइच, यूपी
यूपी में वक्फ की जमीनों पर सत्तादल के नेताओं ने कब्ज़ा कर रखा है। यहां बहराइच में भी दरगाह से लेकर छावनी तक एक नेता ने कब्ज़ा कर रखा है। वक्फ की जमीन अल्लाह की जमीन है इसे जो खुर्द-बुर्द करेगा वो अल्लाह के यहां जहन्नम में जलेगा। ये बात आल इण्डिया मजलिसे-ए-इत्तेहादुल मुस्लमीन के कौमी सदर और मेम्बर आफ पॉर्लियामेन्ट असदुद्दीन ओवैसी ने कही।

असदुद्दीन ओवैसी बहराइच ज़िले के वज़ीरगंज में आयोजित एक जनसभा को संबोधित किया। उत्तर प्रदेश में 2017 के विधान सभा चुनाव के लिये जनसभाओं की शुरुआत करते हुए ओवैसी ने बहराइच के ज़िला प्रशासन को धन्यवाद देते हुये कहा कि मैं तो ये समझ रहा था कि शायद मुझे बहराइच में भी मीटिंग करने की इजाज़त न दी जायेगी क्योंकि इससे पहले जब यूपी के कानपुर में मेरी मीटिंग का प्रोग्राम बनाया गया था तो वहाँ के एडीएम ने शासन को लिखित रिपोर्ट की थी कि अगर मुझे मीटिंग करने की इजाज़त दी गयी तो वहां का मुसलमान सपा से कट जायेगा और इस तरह मुझे मीटिंग नही करने दिया गया था।

बहराइच की कैसरगंज विधान सभा इलाके के वजीरगंज से अपनी चुनावी जनसभा का आगाज़ करते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने सीधे तौर पर विपक्षी पार्टियों को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि आज इतनी बड़ी तादाद में आप को देखकर लखनऊ की हुक्मरान पार्टी को ये पैगाम देना चाहते है कि अब बहराइच का मुसलमान जाग चुका है। यहां की अवाम को मुखातिब करते हुए कहा कि जितना हम मजबूत होंगे उतनी ही कामयाबी हमारे करीब होती जायेगी।

सांसद उवैसी ने कहा कि अगर आपको बीजेपी को सत्ता से रोकना है तो अपनी पार्टी को मजबूत करना होगा। बहराइच के विकास का जिक्र करते हुए उन्होंने मजीद कहा कि आपके क्षेत्र में मुस्लिम समाज के आर्थिक, नैतिक, शैक्षणिक विकास के लिए जो करोड़ों रुपया आया था उसका क्षेत्र में कही भी इस्तेमाल नही दिखाई पड़ रहा है। माली साल के हिसाब से बहराइच के मुसलमानों के जीवन स्तर के सुधार के लिए आने वाली रकम और योजनाओं को गिनाते हुए बताया कि वह पैसा किसकी जेब में चला गया, ये सोंचने की बात है।

ओवैसी ने किसी का नाम लिए बगैर ये भी कहा कि अभी मैं दरगाह शरीफ से लौट रहा था तभी मुझे बताया गया कि दरगाह से लेकर छावनी चौराहे तक तमाम वक्फ की मिल्कीयतों पर यहां के किसी सत्ताधारी शख्स ने कब्ज़ा कर लिया है। वक्फ की मिल्कियत अल्लाह की मिल्कियत है और जो इसे खुर्द-बुर्द करेगा उसे जहन्नम की आग में जलना पड़ेगा।

मुसलमानों के हालात पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में मुसलमान सबसे पिछड़ा है। उसकी तालीमी औसत 33 फीसदी है। मुसलमानों के स्कूल कॉलेजों के लिये आने वाला पैसा कहां चला जाता है इसे आप अच्छी तरह वाकिफ है। मुसलमानों की बस्तियों में स्कूल कॉलेज की जगह थाने और चौकियां बनाई की जाती है। उन्होंने एक बार फिर अल्लाह और रसूल का वास्ता देकर मुसलमानों को जगाने की कोशिश की और अपनी पार्टी के हक में वोट करने की अपील की।

इससे पहले असदुद्दीन ओवैसी का बहराइच पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया। अपनी इस यात्रा के दौरान सबसे पहले उन्होंने आस्ताने गाज़ी हजरत सैय्यद सालार मसऊद गाज़ी रह0 की दरगाह पहुंच कर वहाँ हाजिरी लगाई। उसके बाद अपने निर्धारित कार्यक्रम के विपरीत डाक बंगले पर लोगों की लाख कोशिशों के बावजूद प्रेस से मुलाकात नही की। इसके बाद सीधे जनसभा स्थल पहुंच गये और वहाँ भी जब मीडिया कर्मियों ने उनसे बातचीत करनी चाही तो वहां भी वह मीडिया से बचते हुए अपनी गाड़ी में बैठकर लखनऊ के लिए रवाना हो लिए। जबकि स्थानीय डाक बंगले में प्रेस से मुलाकात का कार्यक्रम प्रस्तावित था इसके बावजूद उनका प्रेस से दूरी बनाये रखने से कई सवाल उठ खड़े हुए हैं।

जनसभा प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली, पार्टी के नेता कलीम जामई, हाजी अली अहमद समेत कई लोगों ने भी संबोधित किया।