निर्दलीय मैदान में कूदे समाजवादी तारिक सिद्दीक़ी

लखनऊ, यूपी

सामाजिक कामों में हर तरफ अपनी मौजूदगी दर्ज कराने वाले और मीडिया में समाजवादी पार्टी की तरफ़ से मज़बूत पक्ष रखने वाले सीनियर नेता तारिक सिद्दीक़ी ने निर्दलीय पर्चा दाख़िल किया। पर्चा दाख़िला के आख़िरी दिन उन्होंने अपेन समर्थकों के साथ पर्चा दाख़िल किया। तारिक सिद्दीक़ी इससे पहले कांग्रेस अल्पसंख्यक सेल और रिसर्च सेल के चैयरमेन रह चुके हैं।

निर्दलीय क्यों
निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरने के सवाल पर तारिक सिद्दीक़ी ने कहा कि आज के दौर में आम जनता राजनीतिक दलों के झूठे वादों से ऊब चुकी है। राजनीतिक दल विकास की बातों को पीछे छोड़कर विवादित मुद्दों पर चुनाव लड़ रहे हैं। प्रदेश की जनता इसमें बदलाव चाहती है। उन्होंने कहा कि हम जनता से किए हर वादे पूरे करेंगे। तारिक सिद्दीक़ी ने कहा कि आज की राजनीतिक उठापटक से सिर्फ़ राजनीतिक दल फ़ायदा उठा रहे हैं।

चुनावी वादा
सीनियर नेता तारिक सिद्दीक़ी ने कहा कि वह अपने विधान सभा क्षेत्र में ये सुनिश्चित करेंगे कि हर घर में कम से कम एक आदमी को रोज़गार ज़रूर मिले। रोज़गार सरकारी या ग़ैर सरकारी सेक्टर में किसी में भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि आम लोगों की बुनियादी परेशानियों के हल के लिए वो कंबाइंड सर्विस सेंटर बनाएँगे। इसके साथ ही आम लोगों की सरकारी सुविधानओं में भागीदारी को सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे।

प्रोफाइल
तारिक सिद्दीकी कई सामाजिक तंज़ीमों से जुड़े हुए हैं। वह मुस्लिम मजलिश मशावरत के प्रदेश सचिव हैं। एसएमयू ओल्ड ब्वायज़ एसोसिएशन से भी वह जुड़े हुए हैं। लखनऊ में होने वाले सोशल कामों में उनकी मौजूदगी हमेशा बनी रहती है।

तारिक सिद्दीकी साल 2012 में चुनाव से पहले विवाद होने की वजह कांग्रेस छोड़ दिया था। कांग्रेस में उन्होंने नई पीढ़ी खास कर मुसलमानों को जोड़ने का काम किया था। इसके साथ ही उन्होंने यूथ लीडरों को राजनीति का ककहरा भी पढ़ाया। 2012 में समाजवादी पार्टी में शामिल हुए लेकिन उन्हें सम्मान नहीं मिला। अलबत्ता सीएम अखिलेश कई मौके पर उनकी तारीफ करते थे।

तारिक सिद्दीकी ने पार्टी में अंदुरुनी विवाद पर टीवी चैनलों में पार्टी की तरफ से बेहतर तरीके से पक्ष रखा। कई चैनल में तो वे लगातार जाते रहे। हिंदी, उर्दू और अंग्रेजी में माहिर तारिक सिद्दीकी को उम्मीद थी कि प्रवक्ताओं की लिस्ट में उनका नाम ज़रूर शामिल होगा या पार्टी उन्हें टिकट देकर सम्मानित करेगी। पार्टी की तरफ से बेरूखी के चलते उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा दाखिल किया।

लोगों की मौजूदगी
इस मौक़े पर बड़ी तादाद में स्थानीय लोग मौजूद थे। इनमें डा नियाज़ अहमद, डॉ मारूफ सिद्दीक़ी, नईम अहमद, तौकीर सिद्दीक़ी, फ़ारूक़ सिद्दीकी, महेंद्र, राम आसरे यादव, सुमित तिवारी, परवेज़, फ़ाकिर रिज़वी, रिज़वान इदरीसी, अमरेंद्र शुक्ला समेत दर्जनों लोग मौजूद थे। इसके साथ ही कई दूसरे दलों के नेता भी इस मौके पर मौजूद रहे।