गोडसे की मूर्ति लगाने का SDPI ने किया विरोध

मेरठ, यूपी

2 अक्टूबर गांधी जयंती के मौके एक तरफ जहाँ देशवासी महात्मा गांधी को याद किया और उन्हें खिराजे अकीदत पेश किया, वहीं दूसरी तरफ हिंदू अतिवादी संगठन अखिल भारतीय हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने अपने मेरठ के कार्यालय में गांधी के हत्यारे गोडसे की मूर्ति स्थापित की है। यहीं नहीं इस अतिवादी संगठन ने गांधी जयंती को धिक्कार दिवस के तौर पर मनाते हुए कार्यकर्ताओं ने नाथूराम गोडसे की पूजा की। सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी आफ इंडिया ने इसका कड़ा विरोध किया है और इसे अति घृणित और राष्ट्र विरोधी बताया है।

इस संबंध में SDPI के नेशनल क्वार्डीनेटर डॉ निज़ामुद्दीन खां के नेतृत्व में पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने ज़िलाधिकारी कार्यालय पर इसके खिलाफ विरोध में प्रदर्शन करते हुये नारेबाज़ी की और ज़िला अधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को मांग पत्र दिया। इस मांग पत्र में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम की मूर्ति लगाने वाले अतिवादियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की गयी है। विरोध प्रदर्शन करने वालों में SDPI के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद कामिल, उपाध्यक्ष मास्टर विशम्भर सिंह, महासचिव फरमान अली, प्रदेश सचिव मोहम्मद नदीम समेत मेरठ मंडल के कार्यकर्ता और पदाधिकारी शामिल थे।

मालूम  हो कि इससे पहले भी हिंदू महासभा के कार्यकर्ताओं ने इसी साल 30 जनवरी को गांधी की पुण्यतिथि को गांधी वध दिवस के रूप में मना कर मिठाईयां बांटी थीं। इसके साथ ही उन्होंने गोडसे की 106 वीं जयंती के मौके पर गोडसे का मंदिर बनवाने की शपथ ली थी। इसको लेकर भी काफी हंगामा हुआ था। जिसके चलते पुलिस ने मंदिर बनने वाली जगह को सील कर दिया था। बाद में ये मामला कोर्ट में चला गया।