2017 के यूपी चुनाव की तैयारी में जुटे कार्यकर्ता: ओवैसी

लखनऊ, यूपी

एमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सपा सरकार पर जमकर हमला बोला। ओवैसी ने कहा कि सपा सरकार ने चार साल के कार्यकाल में मुसलमानों को कुछ भी नहीं दिया। सपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में सिर्फ वहीं बोल सकता है जो सपा का साथ दे। विपक्ष की की आवाज़ दबाई जा रही है।

इससे दौरान ओवैसी की पीसी में जमकर हंगामा हुआ। ये हंगामा खुद एमआईएम के कार्यकर्ताओं ने किया। इस दौरान कुछ मीडिया कर्मियों ने आरोप लगाया कि उनके साथ धक्का मुक्की की गई। ओवैसी के चौक के बुलाके के अड्डे पर पहुंचते ही कुछ लोगों ने विरोध में नारे लगाए। इसके साथ ही काले झंडे भी दिखाए गाए। बाद में पुलिस ने झंडा दिखाने वालों को खदेड़ दिया गया।

समाजवादी पार्टी की बात करते हुए ओवैसी ने कहा कि सपा-बीजेपी एक सिक्के के दो पहलू हैं। दोनों पार्टियों ने के एजेंडे एक हैं। ओवैसी ने कहा कि डा. लोहिया का इतिहास मैंने पढ़ा है, सपा मुखिया मुलायम सिंह को लोहिया के बारे में कुछ भी पता नहीं है।

ओवैसी ने मुजफ्फरनगर दंगे का भी ज़िक्र किया। उन्होंने कहा कि मुज़फ्फरनगर में 50 हज़ार मुसलमानों को घर छोड़ना पड़ा। सबसे ज़्यादा नुकसान मुसलमानों को हुआ। अब ये कहा जा रहा है कि वहा का डीएम और एसपी दोषी है। क्या सरकार की कोई ज़िम्मेदारी नहीं है। 2017 में मुज़फ्फरनगर दंगे का हिसाब लिया जाएगा। ओवैसी ने कहा कि अब हम कोशिश करेंगे कि देश में कोई दंगा न हो।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने चुनाव में वादा किया था कि चुनाव जीतने के बाद मुसलमानों को 18 फीसदी आरक्षण देंगे। उस वादे का क्या हुआ। मुसलमानों को आरक्षण कब मिलेगा।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा की उनका 2017 में चुनावी नारा “जय मीम-जय भीम” होगा। ओवैसी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वो चुनाव की तैयारी में जुट जाएं। उन्होंने कहा कि हम कई मामले में अभी कमज़ोर ज़रूर हैं लेकिन हमारा जज़्बा बहुत मज़बूत है। इंशा अलल्ह हम पूरी मज़बूती के साथ 2017 का चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी लड़ाई सपा और बीजेपी से है। ओवैसी ने बीजेपी का नाम नहीं लिया।

ओवैसी ने पीसी में जयहिंद और हिंदुस्तान – ज़िंदाबाद के नारे लगाए और कार्यकर्ताओं से भी जयहिंद के नारे लगवाए।