मुसलमानों को गुमराह कर रहे हैं मुलायम, मायावती: डॉ अय्यूब

मुज़फ्फरनगर, यूपी

पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ मोहम्मद अय्यूब ने मुलायम सिंह और मायावती पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव और बीजेपी की अंदरूनी मिलीभगत है। बिहार में मुलायम सिंह ने बीजेपी को जिताने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। यहां तक की मुलायम सिंह इसके लिए महागठबंधन से अलग हो गए।

शहर में नुमाइश मौदान में आज पीस पार्टी ने संपूर्ण स्वराज रैली का आयोजन किया था। इस रैली में मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ मौहम्मद अय्यूब थे। रैली के लिए ज़िला यूनिट के साथ आसापास के ज़िले के कार्यकर्ताओं में काफी मेहनत की थी। रैली में लोगों का सुबह से ही आना शुरु हो गया था। रैली में जुटी भारी भीड़ को देखकर नेताओं के चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी।

051115 PP MUZAFFAR NAGAR RALLY 6

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अय्यूब ने रैली में सभी पार्टियों पर जमकर हमला किया। उन्होंने कहा कि बीएसपी अध्यक्ष मायावती केवल मुसलमानों को गुमराह करने का काम कर रही है। डॉ अय्यूब ने कहा कि अगर मायावती वाकई बीजेपी को रोकना चाहती हैं, तो यूपी में भी बिहार की तर्ज पर महागठबंधन बनाएं। पीस पार्टी इसके लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कहा कि बीजेपी को रोकने के लिए महागठबंधन ज़रूरी है। डॉ अय्यूब ने कहा कि प्रदेश में अगर मुसलमान एकजुट हो तो वह विधान सभा की 60 सीटें अपने बल पर निकाल सकते हैं।

डॉ अय्यूब ने कहा कि पीस पार्टी हिंदू-मुसलमान की नहीं इंसानियत की सियासत करती है। बीजेपी और सपा प्रदेश में दोनों समुदाय के बीच खाई पैदा कर रही हैं। मुज़फ्फरनगर के दंगे इन्हीं दोनों पार्टियों अपने फायदे कि लिए मिलकर कराए।

051115 PP MUZAFFAR NAGAR RALLY 5

रैली को प्रदेश अध्यक्ष डॉ अब्दुल मन्नान ने संबोधित करते हुए कहा कि पीस पार्टी ने प्रदेश में पहले ही दंगे का अंदेशा जताया था। समाजवादी पार्टी ने इसे कर दिखाया। डॉ मन्नान ने कहा कि पीस पार्टी के 4 विधायकों की जगह 40 विधायक होते तो प्रदेश में कहीं भी दंगा नहीं होता।

संपूर्ण स्वराज रैली को प्रदेश प्रभारी इंजीनियर इरफान, प्रदेश महासचिव रईस कुरैशी, ज़िलाध्यक्ष इरफान ने भी संबोधित किया। मंच का संचालन राष्ट्रीय महासचिव अफरोज़ बादल ने किया। रैली में आरिफ खान, यूनुस अंसारी, इम्तियाज़ अली, सरफराज़ खान, तबरेज़, इमरान अंसारी, गुलज़ार खान, नदीम अंसारी, गौहर अंसारी समेत कई वरिष्ठ कार्यकर्ता मौजूद थे।