मुख्तार अंसारी के जौनपुर सदर से चुनाव लड़ने की खबर झूठी

मोहम्मद शारिक ख़ान/लखनऊ डेस्क

जौनपुर/लखनऊ, यूपी
कौमी एकता दल के नेता और मऊ से विधायक मुख्तार अंसारी के जौनपुर सदर से चुनाव लड़ने की खब़र झूठी और बेबुनियाद है। सोशल मीडिया पर ये खब़र पिछले दो दिनों से लगातार वायरल है। जब इस खब़र की तहकीकात पीएनएस की कौमी एकता दल के बड़े नेताओं से की तो पता चला कि पार्टी की तरफ से अभी ऐसी कोई बात भी नहीं कही गई है। पार्टी के एक प्रमुख नेता ने पीएनएस न्यूज़ एजेंसी को बताया कि मुख्तार अंसारी के चाहने वाले पूरे यूपी से उन्हें चुनाव लड़ाना चाहते हैं और समय-समय पर ऐसी खबरें आती रहती हैं। पर इन खब़रों में कोई सच्चाई नहीं है।

दरअसल पिछले दो दिनों से मुख्तार अंसारी के जौनपुर सदर से चुनाव लड़ने की खब़र खूब चल रही है। इस बीच कुछ न्यूज पोर्टल ने बिना खब़र की तस्दीक किये इसे छाप दिया कि मुख्तार अंसारी मऊ की जगह जौनपुर सदर से चुनाव लड़ने वाले हैं। इस खब़र में कहा गया है कि जौनपुर में मुख्तार अंसारी के चुनाव लड़ने की बाकायदा तैयारी भी शुरु हो चुकी है।

पीएनएस न्यूज़ एजेंसी ने जब पार्टी के महासचिव मिस्बाहुद्दीन से बात की तो उन्होंने बताया कि कौमी एकता दल के विधायक मुख्तार अंसारी लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। उन्हें हर वर्ग और समुदाय के लोग पसंद करते हैं और प्यार करते हैं। दरअसल उनके चाहने वाले हमेशा उन्हें अपने विधान सभा से चुनाव लड़ाना चाहते हैं। पार्टी महासचिव मिस्बाहुद्दीन ने बताया कि विधायक मुख्तार अंसारी के चुनाव लड़ने पर अभी कोई बात नहीं हुई है। वो मऊ से विधायक हैं और मऊ की जनता उन्हें बेहद प्यार करती है। पार्टी महासचिव ने कहा कि मुख्तार अंसारी फिलहाल मऊ से ही चुनाव की तैयारी कर रहे हैं।

मुख्तार अंसारी से जुड़ी खबर में ये भी कहा गया है कि मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी मऊ से चुनाव लड़ सकते हैं। पार्टी ने इस पर कहा कि कि ऐसी कोई बात अभी सामने नहीं आई है। अब्बास अंसारी के चुनाव लड़ने की खबर पहले भी चल चुकी है। पीएनएस ने इसी खबर की उस समय पड़ताल की थी तो पता चला था कि अब्बास अंसारी इस बार विधान सभा का चुनाव ही नहीं लड़ सकते हैं। अगर मार्च 2017 में चुनाव हो तो भी चुनाव लड़ने अब्बास अंसारी की उम्र कम है। यही वजह है कि वह इस बार के विधान सभा चुनाव में मैदान में नहीं उतर सकते हैं। इतना ज़रूर है कि वह मऊ और गाज़ीपुर में काफी सक्रिय हैं और पार्टी की युवा विंग के साथ इलाके में लगातार जनसंपर्क करते रहते हैं।

मुख्तार अंसारी के बेटे की चुनाव लड़ने का ख़बर महज़ अफवाह