मीना हादसा: अब तक 717 हाजियों की मौत, 730 घायल

मक्का, सऊदी अरब

सऊदी अरब के शहर मक्का के मीना में भगदड़ मचने से अब तक 717 हाजियों की मौत हो गई, जबकि 730 से ज़्यादा हाजियों के घायल होने की ख़बर है। ये हादसा हज के दूसरे दिन मक्का शहर से करीब 6 किमी दूरी पर मीना में पेश आया है। जब ये हादसा उस समय हुआ जब हाजी सतून को पत्थर मारने की रस्म में शामिल होने जा रहे थे। अब तक किसी भारतीय की मौत या घायल होने की ख़बर नहीं है। सऊदी अरब में पिछले एक दशक में सालाना हज के दौरान हुआ ये सबसे बड़ा ये हादसा है। मीना में हुई भगदड़ के बाद राहत और बचाव अभियान युद्ध स्तर पर चलाया जा रहा है। विदेश मंत्रालय ने अभी तक किसी भारतीय की मौत की ख़बर नहीं दी है।

 

पांच दिन की हज यात्रा के दौरान मुजदलफा से मीना लौटते समय यहां तीन सतून को कंकड़ी मारने की रस्म अदा की जाती है। यहां मौजूद चश्मदीदों ने बताया कि स्ट्रीट 204 के करीब जमारत ब्रिज के गेट के करीब ये हादसा पेश आया। उस समय यहां दिन में 10 बजे थे। ये वहीं इलाका है, जहां से सतून को पत्थर मारने के लिए जाया जाता है। यहां पहले से हाजियों का एक ग्रुप बैठा था कि अचानक दूसरा ग्रुप आ गया। इस बीच कुछ लोग बैठे हुए हाजियों पर चढ़ गए और फिर भगदड़ मच गई। सऊदी सरकार की तरफ से अभी घटना की डिटेल जानकारी नहीं दी गई है कि भगदड़ किस वजह से हुई। सऊदी सिविल डिफेंस ने कहा है कि अभी इसका पता नहीं चल पाया है। जैसे ही ये हादसा पेश आया सऊदी अरब सरकार ने तुरंत इमरजेंसी घोषित कर दी। चारो तरफ एंबुलेंस की आवाज़ सुनाई दे रही थी।

सऊदी अरब के किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज हज के समय मक्का में ही हैं। वे हज यात्रा के इंतज़ाम की निगरानी खुद कर रहे हैं। जैसे ही ये हादसा पेश आया किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज ने तुरंत राहत और बचाव का काम शुरू कराया। सऊदी सरकार ने 4000 से ज़्यादा लोगों को इस काम में लगाया। मौके पर 220 से ज़्यादा एंबुलेंस से घायलों को अस्‍पताल पहुंचाया गया। दूसरी तरफ मेडिकल टीमों में घटनास्थल पर ही ज़रूरी चिकित्सा पहुंचाना शुरु कर दिया।

 

इस साल हज पर 1.5 लाख से ज्यादा भारतीयों समेत 25 लाख से ज्यादा लोग हज के लिए सऊदी अरब गए हैं। जेद्दा में भारतीय वाणिज्य दूतावास के अधिकारियों ने बताया कि अभी तक किसी भारतीय के हताहत होने के बारे में जानकारी नहीं मिली है। हज यात्रा पर आए अल्पसंख्यक पैनल, आंध्रप्रदेश के अध्यक्ष आबिद रसूल खान ने बताया, ‘मेरे शिविर में करीब 400 यात्री हैं। सभी सुरक्षित हैं। लेकिन मैं उन्हें कॉल कर अन्य लोगों की खैरियत जानने की कोशिश कर रहा हूं।’ गौरतलब है कि इसी साल इससे पहले 11 सितंबर को क्रेन हादसा हुआ था जिसमें वहां 107 लोगों की मौत हो गई थी और करीब 200 से ज़्यादा लोग घायल हुए थे।

मक्का शहर के मीना में सतून को कंकड़ी मारना सिर्फ एक रस्म अदायगी भर है। यहां सतून के तीन बड़े खंभे बनाए गए हैं ताकि लोक आसानी से ये रस्म कर सकें। हज करने आए लोग मुजदलफा में कंकड़ी एकट्ठा करते हैं और फिर उन्हें सतून के खंभों पर मारते हैं।

सऊदी अरब का हेल्फ लाइन नंबर-

00966125458000, 00966125496000