मालेगांव ब्लास्ट: फंसाए गए 9 बेकसूर मुसलमान बरी

मुंबई, महाराष्ट्र

साल 2006 के मालेगांव धमाके में सभी 9 बेकसूर मुस्लिम आरोपियों को बरी कर दिया गया हैं। एक आरोपी शब्बीर अहमद की पहले ही मौत हो चुकी है, जबकि 4 आरोपी फरार हैं। एनआईए ने इस फैसले का स्वागत किया है। एनआईए के डीजी ने कहा कि हम इस फैसले का स्वागत करते है और कानून अपना काम करेगा।

2006 में महाराष्ट्र के मालेगांव में शबे-बारात के दिन एक मस्जिद में बम धमाका हुया था, जिसमें 37 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हो गए थे। इस बम धमाके बाद राज्य की एटीएस ने कुल 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इन आरोपियों को सिमी से जुड़ा हुआ बताया गया था।

बाद में यह जांच एनआईए के पास गई, जिसमें यह सामने आया कि मालेगांव धमाके में गिरफ्तार किए लोगों का हाथ नहीं है। जांच में ये बात सामने आई कि इसमें हिंदू संगठन का हाथ है। इसके बाद कोर्ट ने 9 आरोपियों को ज़मानत दे दी थी। इन 9 लोगों ने कोर्ट में अर्ज़ी दी थी कि उन्हें एटीएस ने फंसाया है और उन्हें इस मामले में डिस्चार्ज किया जाए।

मालेगांव धमाके से जुड़ी कुछ अहम बात
8 सितंबर 2006 को कुल 4 बम धमाके हुए थे
3 हमीदिया मस्जिद में और एक मुशावरत चौक पर हुआ था धमाका
31 लोगों की मौत हुई थी और 312 के करीब जख्मी हुए थे

एटीएस जांच पर संदेह
जांच एजेंसी एटीएस ने तब कुल 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर 9 युवकों को गिरफ्तार किया था और उनके खिलाफ मकोका के तहत आरोपपत्र दायर किया था। एटीएस ने मामले में एक आरोपी को सरकारी गवाह भी बनाया था, लेकिन बाद में वो मुकर गया।

सीबीआई की जांच भी संदेह के घेरे में
एटीएस की जांच पर सवाल उठने पर मामला सीबीआई को दे दिया गया। सीबीआई ने भी एटीएस की कहानी को ही आगे बढ़ाते हुए 11 फ़रवरी 2010 को सभी 9 आरोपियों के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की।

2008 के धमाके का मामला
2008 में हुए धमाके के मामले में एटीएस की जांच में ‘अभिनव भारत’ संस्था का नाम सामने आया था। इस मामले में स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित सहित साध्वी प्रज्ञा सिंह को गिरफ्तार किया गया था। इस मामले की जांच जारी है। असीमानंद ने अपने इकबालिया बयान में सुनील जोशी का नाम लिया था। कहा जाता है कि सुनील जोशी ने इस हमले के बारे में कहा था कि उनके लड़कों ने यह काम किया था। बाद में सुनील जोशी की हत्या हो गई थी। पुलिस उन्हें गिरफ्तार नहीं कर पाई थी।

एनआईए से जांच
उसके बाद मामले में नया मोड़ तब आया जब असीमानन्द के बयान के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने 4 दूसरे लोगों को मामले में आरोपी बनाया और उनके खिलाफ 25 मई 2013 को एनआईए के स्पेशल कोर्ट में आरोप पत्र दायर किया। तब से मामला उलझा हुआ है।

4 हिन्दू आरोपी जेल में
एटीएस द्वारा गिरफ्तार 9 मुस्लिम आरोपियों में से 6 की जमानत हो चुकी है। एक की मौत हो गई है और 2 जेल हिरासत में हैं। वहीं एनआईए द्वारा गिरफ्तार सभी 4 हिन्दू आरोपी जेल हिरासत में हैं।

मुस्लिम आरोपियों ने दर्ज मामले को ख़ारिज करने की अर्जी दी 
ज़मानत पर छूटे मुस्लिम आरोपियों ने अपने खिलाफ दर्ज मामले को ख़ारिज करने की अर्जी दी थी, जिस पर सोमवार को फैसला आया। खास बात है कि इसी धमाके में दूसरे मोड्यूल को पकड़ने वाली एनआईए ने पहले वाले आरोपियों के डिस्चार्ज का समर्थन नहीं किया। एनआईए का कहना है कि डिस्चार्ज एप्लीकेशन एनआईए की जांच के आधार पर है ना कि एटीएस की जांच पर। इसलिए इस स्टेज पर फैसला लेने से बेहतर होगा कि मुक़दमा चले।

मालेगांव 2006 के आरोपी (एटीएस वाले)
1) नुरुल हुडा समसुदा (जमानत पर)
2) शब्बीर अहमद मसिउल्लाह (मृत)
3) रईस अहमद रज्जाब अली मंसूरी (जमानत पर)
4) डॉ सलमान फ़ारसी अब्दुल (जमानत पर)
5) डॉ फरोग इक़बाल अहमद मगदुमि (जमानत पर)
6) शेख मोहम्मद अली आलम अनामत अली शेख (जेल हिरासत में)
7) आसिफ खान बसीर खान (जेल हिरासत)
8) मोहम्मद ज़ाहिद अब्दुल मजीद अंसारी (जमानत पर)
9) अब्रार अहमद गुलाम अहमद (जमानत पर)
10) रियाज अहमद सफी अहमद (फरार)
11) इस्तीयाक अहमद मोहम्मद इसाक (फरार)
12) मुन्नवर अहमद मोहम्मद अमीन (फरार)
13) मुज़म्मिल (पाकिस्तानी – फरार)

एनआईए के आरोपी 
1) मनोहर नरिवाला उर्फ़ सुमेर ठाकुर (जेल हिरासत में)
2) राजेंद्र चौधरी उर्फ़ दशरथ (जेल हिरासत)
3) धान सिंह (जेल हिरासत)
4) लोकेश शर्मा (जेल हिरासत)