सरकार चुप: देवबंद की गलियां और सड़कें अस्पताल में तब्दील

मेहदी हसन एैनी

सहारनपुर, यूपी
ऊपर जो तस्वीर आप देख रहे हैं ये यहां निर्माणाधीन जीटी रोड के फ्लाईओवर के नीचे एक मरीज़ का इलाज चल रहा है। मरीज़ की हालत सीरियस है और उसे ड्रिप लगी हुई है। ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल है और ये देवबंद में फैले डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारी से पैदा हुए हालात की जानकारी दे रही हैं।

हर घर में मरीज, हर चेहरे पर शिकन और परेशानी, अस्पताल में तिल रखने की जगह नहीं, गली और सड़क पर बेड पर लेटे मरीज़… ये हाल किसी गरीब अफ्रीकन मुल्क का नहीं बल्कि यूपी के सहारनपुर ज़िले के देवबंद का है। यहां चारों ओर डेंगू, चिकनगुनिया के प्रकोप से बदतर हाल हो गई है। यहां मौत का आकड़ा 70 के करीब है।

बात करें सरकारी तैयारियों की तो ज़िला प्रशासन का दावा तो कहता है कि हर मरीज़ को बेहतर इलाज दिया जा रहा है लेकिन जब आप हकीकत जानेंगे तो हैरान रह जाएंगे। सरकारी अस्पतालों में एक भी बेड खाली नहीं है। प्राइवेट अस्पताल में लूट के बाद भी बेड खाली नहीं हैं। यहीं नहीं कई प्राइवेट छोटे अस्पतालों ने तो गलियों और सड़कों पर बेड लगाकर मरीज़ों का इलाज कर रहे हैं।

बीमारी से परेशान लोगों ने प्रशासन पर आरोप लगया है कि वह दबाव बनाकर पैथालॉजी लैब से रिपोर्ट में हेराफेरी कर रही है ताकि बीमारी के आकड़े छिपाए जा सके। देवबंद में एसडीएम के पास नगर पालिका का भी चार्ज है लेकिन शहर में साफ-सफाई की व्यवस्था बिल्कुल ठप है। शहर में हज़ारों की तादाद में कुत्तों का हर जगह दिखाई देता है। फागिंग तो बहूत दूर की बात है, पूरा शहर कूड़ों से पटा पड़ा है। अब देखना ये है कि चुप बैठी सरकार कब कार्रवाई करती है।