अच्छी शुरुआत: वोटिंग फीसदी बढ़ाने के लिए मदरसा की पहल

खलीलाबाद, यूपी

ज़िले के सेमरियावां के मजीदाबाद के मदरसा अलहिदाया दारुल उलूम के उलेमाओं ने शानदार पहल की है। मदरसा के उस्ताद और बच्चों ने मिलकर ज़िले में वोटर के ये संदेश दे रहे हैं कि वोटिंग करना बहुत ज़रूरी है। दारुल उलूम ने बैठक कर वोट फीसदी बढ़ाने की रणनीति भी बनाई है। इस दौरान मदरसे के उस्ताद और बच्चे घर-ङर जाकर लोगों को जागरुक कर रहे हैं

मदरसा के तमाम उस्ताद इस दौरान खास तौर पर मुसलमानों से अपील कर रहे हैं कि वह अपने घरों की महिलाओं, बालिकाओं और बच्चें से शत प्रतिशत वोट कराएं। उस्ताद ये भी बता रहे हैं कि वोट देना हर भारत के नागरिक का अधिकार है। इस अधिकार को वंचित न होने दें। आने वाली 27 फरवरी को अपने घर का एक एक वोट कराएं।

मदरसा के नाज़िम मौलाना फुजैल अहमद नदवी ने लोगों से अपील की है कि वह अपने घर का सभी वोट पोल कराएं। लोकतंत्र की मजबूती के लिए एक भी वोट बेकार नहीं होना चाहिए। इन दौरान उन्होंने कहा कि भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में शासन ने सबको एक वोट का अधिकार दिया है। इस अधिकार प्रयोग हर हाल में देश के विकास के लिए करें। उन्होंने कहा कि आप के एक वोट देश के विकास के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इस को किसी भी हाल में बर्बाद ना करें।

मौलाना नदवी ने कहा कि मदरसे के बच्चों की जिम्मदारी है कि वह लोगों को समझाएं कि लोगों को वोट करने के फायदे बताएं। उन्होंने कहा कि वोट प्रतिशत बढ़ाने के लिए अपने घर के लोगों को वोट करने पर मजबूर करें। गांव में रहने वाले बूढ़े बुजुर्ग और विकलांग मतदाताओं की मदद कर बूथ तक पहुचाएं।

वोटर जागरुकता अभियान में मौलाना मोहम्मद नाज़िम कासमी, मौलाना शफीक अहमद कासमी, हाफिज वसीम अहमद, हाफिज शकील अहमद, मौलाना साईद अहमद, मौलाना वकील अहमद, कारी जुलफेकार अहमद, मौलाना शमशाद अहमद, मास्टर सुहेल अहमद समेत की लोग मदद कर रहे हैं।