पैगम्बर-ए-इस्लाम की शान में गुश्ताखाना बयान पर भड़के मुस्लिम

अब्दुल अज़ीज़

बहराइच, यूपी
तारीख गवाह है कि हिदुस्तान की आज़ादी से लेकर उसकी तामीर, फ्लाह और बहबूदी के लिए मुस्लिम समाज ने हमेशा से अपनी जानी और माली कुर्बानियां दी हैं और अपनी कौम परस्ती का सुबूत दिया है। इसके बावजूद पिछले कुछ दिनों से मुल्क में कुछ असामाजिक तत्वों के ज़रिये इस्लाम और इस्लाम के मानने वालों के खिलाफ ज़हर घोलने का काम किया जा रहा है। अभी कुछ दिन पहले शहर के घण्टाघर के आर्य समाज में एक सेमिनार के दौरान इस्लाम का मज़ाक उड़ाया गया और काफी बुरा-भला कहा गया।

इस बार हिन्दू महासभा के अध्यक्ष कमलेश तिवारी ने पैगम्बर-ए-इस्लाम के बारे में गुस्ताखाना बयान दिया हैं। इसके बाद जहां पूरे मुल्क में मुसलमान गुस्से में हैं और विरोध प्रदर्शन कर रहे रहे हैं। वहीं शहर में भी मुसलमानों ने विरोध प्रदर्शन किया और नमाज़-ए-जुमा के बाद जमीअत-ए-उलेमा हिंद के नेतृत्व में प्रशासन को एक ज्ञापन दिया। इस ज्ञापन में कहा गया है कि कमलेश तिवारी के बयान से मुस्लिम समाज और इस्लाम के मानने वालों को शदीद ज़हनी तकलीफ पहुंची है। यही नहीं ये बयान भारतीय संविधान की मुल भावना के खिलाफ है।

शहर के मुसलमानों ने आज जामा मस्जिद ग्राउंड में जमा होकर सिटी मजिस्ट्रेट को ये ज्ञापन दिया। इस दौरान सीओ सिटी अनूप कुमार भारी सुरक्षा बलों के साथ मौजूद रहे।

प्रशासन को दिए गए ज्ञापन में सरकार से मांग की गई है कि इस गुस्ताखाना बयान के लिए कमलेश तिवारी के खिलाफ सख़्त कानूनी कार्रवाही की जाये। इसके आलावा मुल्क में मुसलमानों के खिलाफ चल रही साजिश को रोकने के लिए ठोस कदम उठाएं जाएं जिससे कि समाज के लोगों में पनप रहे डर और गुस्से को खत्म किया जा सके। ज्ञापन में मांग की गयी है कि इस तरह की खबरों को मीडिया और सोशल मीडिया पर आने से पाबंदी लगाई जाए जिससे मुल्क का शांति और व्यवस्था कायम रह सके।

3 COMMENTS

    • कोई प्रेस रिलीस और फोटो हो तो भेजिये खबर छपेगी

      Regards
      Team PNS

Comments are closed.