Bihar: BJP विधायक के मुस्लिमों पर बयान से सियासत गर्म, RJD ने CM नीतीश की ‘चुप्पी’ पर उठाया सवाल

पटना. बीजेपी के विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल के मुस्लिमों के वोटिंग अधिकार को लेकर दिये बयान पर बिहार की राजनीति गर्म है. विपक्ष ने उनसे माफी मांगने की मांग की है. लेकिन, हरिभूषण ठाकुर ने इससे इनकार किया है. राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की तरफ से इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी गई है. पार्टी के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने न्यूज़ 18 से बात करते हुए कहा कि हमें बचौल साहब से तो शिकायत ही नहीं है. क्योंकि वो जिस राजनीतिक पृष्ठभूमि से आते हैं उसमें अपना प्वाइंट स्कोर करना चाहते हैं. आरजेडी सांसद ने कहा कि यह मामला यहीं खत्म होने वाला नहीं है. अगली बार बिस्फी की जनता उनकी (हरिभूषण ठाकुर) हवा निकाल देगी.

मनोज झा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी निशाना साधते हुए कहा कि उनकी ‘आपराधिक चुप्पी’ चिंता का विषय है. इतनी बड़ी बात कोई बोल जाए और मुख्यमंत्री के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है. नीतीश कुमार संविधान को महफूज रखने की शपथ के साथ मुख्यमंत्री बने हैं, इसलिए इस पर उनकी चुप्पी खतरनाक साबित हो रही है. उन्होंने कहा कि क्या मुख्य्मंत्री कोर संवैधानिक मूल्यों पर भी अपनी जुबान नहीं खोलेंगे? इस बात की चिंता ज्यादा है. उन्होंने कहा कि कोई भी पार्टी अगर संविधान के दायरे के इतर कोई बयान देती है जिससे हिंदुस्तान के मर्म और आत्मा छलनी होती है उस पर किसी को चुप नहीं रहना होना चाहिए एक्शन होना चाहिए.

आरजेडी सांसद ने मांग की है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सीधे तौर पर बात करें और कहें कि वो (हरिभूषण ठाकुर) सार्वजनिक तौर पर माफी मांगें. क्योंकि उनका बयान सार्वजनिक था, इसलिए माफी भी सार्वजनिक हो.

बिस्फी से बीजेपी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने पिछले दिनों मुस्लिमों के वोटिंग अधिकार को लेकर विवादित टिप्पणी की थी 

JDU ने भी हरिभूषण ठाकुर के बयान की निंदा की, RJD को दिया जवाब

वहीं, जेडीयू ने भी बीजेपी के विधायक हरिभूषण ठाकुर के बयान की निंदा की है. लेकिन, साथ ही उसने आरजेडी को भी जवाब दिया है. पार्टी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव के.सी त्यागी ने कहा कि हरिभूषण ठाकुर का वक्तव्य भारत की संविधान की परंपराओं के विरुद्ध है. उन्होंने कहा कि जिस संविधान की हम शपथ लेते हैं, वो धर्मनिरपेक्ष है, समाजवादी है, और देश के सभी नागरिकों को समान अधिकार देता है. इसलिए हरिभूषण ठाकुर का बयान डॉक्टर अंबेडकर का भी अपमान है.

के.सी त्यागी ने हरिभूषण ठाकुर को नसीहत देते हुए कहा कि इस तरह के बयानों से परहेज करना चाहिए. उन्होंने उनके बयान की निंदा करते हुए कहा कि ठाकुर का वक्तव्य माफ नहीं करने वाला है.