लघु उद्योग में आज़मगढ़ का झंडा बुलंद करने वाले मास्टर इश्तियाक नहीं रहे

मोहम्मद शारिक ख़ान

आजमगढ़, यूपी
ज़िले के सरायमीर के रहने वाले अज़ीम शख्सियत मास्टर इश्तियाक का लंबी बीमारी के बाद इंतकाल हो गया। वो काफी दिनों से अलीगढ़ में ज़ेरे-इलाज थे। मास्टर इश्तियाक को शाम में उनके गांव महुआरा आजमगढ़ में दफन किया गया।

उनके तत्काल की खबर आते ही इलाके में शोक की लहर दौड़ गई। इंतकाल की खबर सुनकर उनके घर सैकड़ों लोग इकठ्ठा हो गए। उनके इंतकाल पर कई लोगों ने शोक का इज़हार किया है। इलाके के व्यवसायी मोहम्मद अकरम, शेख आदिल विधायक दीदारगंज, कपड़ा व्यवसायी जावेद अहमद, बीएसपी कैंडीडेट अबुलकैश, बीएसपी नेता तारिक, एमआईएम नेता कलीम जामई, शाबाज़ अहमद समेत हज़ारों लोगों ने नमाज़ जनाज़े में शामिल हुए और मरहूम की मगरफिरत के लिए दुआ की।

मास्टर इश्तियाक इलाके के एक सफल व्यवसायी थे। वो बीड़ी उद्योग के साथ जुड़े थे और उनके साथ सैकड़ों लोग जुड़े थे। इसके साथ-साथ वो अच्छे व्यक्तित्व के धनी थे। मास्टर इश्तियाक सामाजिक सरोकारों में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते थे। वो अदब से भी जुड़े थे और शायरी भी किया करते थे। अदबी हलक़ों में उन्हें राशिद आज़मी के नाम से जाना जाता था।