तो पीस पार्टी में किनारे कर दिए गए अज़ीज़ बर्नी !

लखनऊ, यूपी

पीस पार्टी में सब कुछ ठीकठाक नहीं चल रहा है। बड़े ज़ोर-शोर में पार्टी में हाल में शामिल किए पार्टी के मुख्य राष्ट्रीय प्रवक्ता और महासचिव अज़ीज़ बर्नी आजकल दिखाई नहीं दे रहे हैं। अज़ीज़ बर्नी को पार्टी में शामिल करते समय पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कई तरह के दावे किए थे लेकिन फिलहाल अज़ीज़ बर्नी पार्टी के कार्यक्रमों में दिखाई नहीं दे रहे हैं। दरअसल ये सवाल इसलिए उछल रहा है कि पार्टी के लिए विधान सभा चुनाव ही सबसे बड़ी जंग है और ऐसे मौके पर अगर पार्टी का इतना बड़ा नेता न दिखाई दे तो सवाल उठना लाज़िमी है।

अज़ीज़ बर्नी जाने माने पत्रकार रहे हैं। उन्हें उर्दू मीडिया को नई ऊंचाई तक ले जाने का श्रेय दिया जाता है। सहारा जैसे घराने के अखबार को उन्होंने नई बुलंदियों पर पहंचाया। उन्होंने आतंकवाद और तमाम मुद्दों पर बेबाकी से लिखा। उन्हें मुसलमानों का एक तबकाबहुत पसंद करता है। कौमी आवाज़ के बाद जो स्पेस उर्दू मीडिया में खाली हुआ था उसको उन्होंने भरने की पूरी कोशिश की थी।

डॉ अय्यूब ने उन्हें बड़े ज़ोर-शोर से पार्टी में शामिल किया था। लखनऊ में एक बड़े होटल में उनको मीडिया के सामने पेश किया गया था। उन्हें पार्टी में बड़ा पद मिला था। उन्हें पार्टी में राष्ट्रीय प्रवक्ता, महासचिव और उत्तराखंड का प्रभारी बनाया गया था। पार्टी में शामिल होने के बाद अज़ीज़ बर्नी ने पार्टी के कई कार्यक्रमों हिस्सा लिया। अज़ीज़ बर्नी पार्टी की कई रैलियों में भी शामिल हुए। फिर अचानक वो पार्टी के कार्सक्रम में दिखना बंद हो गए।

पीस पार्टी के सूत्रों की खबरों पर यकीन करें तो अज़ीज़ बर्नी को पार्टी से लगभग किनारे कर दिया गया है। उन्हें न तो किसी कार्यक्रम में बुलाया जा रहा है और न ही पार्टी के उम्मीदवारों से कहा गया है कि वह उन्हें बुलाएं। विधान सभा चुनाव करीब है ऐसे में अगर अज़ीज़ बर्नी को किनारे किया गया है ये माना जाये कि उनका अब पार्टी से मोहभंग हे गया है। अब देखना ये है कि पार्टी के अध्यक्ष का अज़ीज़ बर्नी को लेकर अगला कदम क्या होगा।