तो पहले एमआईएम में शामिल होना चाहते थे अज़ीज बर्नी!

डॉ अशफाक अहमद

लखनऊ/नई दिल्ली
क्या पीस पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महासचिव अज़ीज़ बर्नी पहले एमआईएम में शामिल होना चाहते थे। क्या इसके लिए अज़ीज़ या उनके लोगों ने पिछले साल सितंबर में एमआईएम से संपर्क किया था। अगर इस बात की तहकीकात करें तो तो पता चलेगा कि अज़ीज़ बर्नी ने इसके लिए बाकायदा एमआईएम के नेताओं से संपर्क किया था। इसके बाद एमआईएम नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष से इस सिलसिले में  बाकायदा बात की थी। अज़ीज़ बर्नी हैदराबाद भी जाना चाहते थे लेकिन पार्टी अध्यक्ष की तरफ से कोई रिस्पांस न मिलने पर वो एमआईएम में शामिल नहीं हो पाए। इसके बाद वह पीस पार्टी में शामिल हो गए।

पीएनएस ने की तहकीकात
पीएनएस ने जब इस मामले में तहकीकात की तो पता चला कि साल 2016 के सितंबर महीने में कुछ लोगों ने एमआईएम की दिल्ली टीम के एक सीनियर मेंबर से संपर्क किया। इन लोगों ने पत्रकार अज़ीज़ बर्नी के बारे में बताया और कहा कि वह पार्टी के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी से मिलना चाहते हैं। दिल्ली टीम के इस सदस्य ने दिल्ली में एमआईएम के प्रदेश प्रभारी इरफानुल्लाह को इस बारे में बताया। दिल्ली टीम ने इस मामले में अपने बड़े नेताओं से बात की। खबरों के मुताबिक दिल्ली टीम ने ज़्यादा रिस्पांस नहीं दिया। इसके बाद अज़ीज़ बर्नी की तरफ से बात करने वालों ने सीधे हैदराबाद में भी संपर्क किया। वहीं भी इन्हें निराशा हाथ लगी।

क्या कहती है दिल्ली एमआईएम
दिल्ली में एमआईएम के नेताओं से जब पीएऩएस न्यूज़ एजेंसी ने बात की तो उन्होंने ज़्यादा कुछ नहीं बताया। पीएनएस की तरफ से ज़ोर देने पर उन्होंने बताया कि अज़ीज़ बर्नी के लिए कुछ लोगों ने संपर्क किया था इसके अलावा कुच भी नहीं बताया गया। हैदराबाद में भी पीएनएस ने इस मामले में तहकीकात तो वहां भी यही बताया गया कि अज़ीज़ बर्नी की तरफ से कुछ लोगों ने संपर्क किया है। पार्टी के सूत्रों के मुताबिक अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी खुद उन्हें पार्टी में नहीं लेना चाहते थे, यही वजह थी कि उन्हें कोई रिस्पांस नहीं दिया गया।

कहां बिगड़ी बात
इस बीच सिंतंबर के तीसरे हफ्ते में एमआईएम की तरफ से कोई रिस्पांस न मिलने पर अज़ीज़ बर्नी ने पार्टी अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। यहां तक कि एमआईएम के प्रदेश प्रवक्ता अदील अल्वी के खिलाफ उन्होंने एएमयू में वीसी को बाकायदा खत लिख कर खिकायत दर्ज कराई। दरअसल सोशल मीडिया पर जैसे ही अज़ीज़ बर्नी ने अवैसी के खिलाफ पोस्ट लिखी वैसे ही ओवैसी समर्थक उनकी पोस्ट पर रिएक्शन देने लगे। इनमें अदील अल्वी ने भी पार्टी अध्यक्ष का बचाव किया। यही वजह रही कि उन्होंने अदील कि शिकायत एएमयू वीसी से की। उस वक्त पीएनएस ने ये खबर चलाई थी।

अन्त में
दरअसल अज़ीज़ बर्नी एक अखबार में महंगे विज्ञापन के ज़रिए एमआईएम पर दर्जनों इल्ज़ाम लगा रहे हैं। उन्होंने ओवैसी पर बीजेपी का एजेंट समेत कई बड़े इल्ज़ाम लगाए हैं। ये महंगा विज्ञापन पिछले कई दिनों से छप रहा है। इससे पहले पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ अय्यूब की तरफ से भी ऐसा ही विज्ञापन दिया गया था। उसके बाद पीस पार्टी ने अज़ीज़ बर्नी के नाम से पिछले कई दिनों से महंगा विज्ञापन जारी कर रही है। इस विज्ञापन में एमआईएम और असदुद्दीन ओवैसी पर कई तरह के इल्ज़ाम लगाए गए हैं।

एमआईएम के नेता इस मसले पर कुछ भी बोलने से परहेज़ कर रहे हैं। पार्टी के नेताओं का मानना है कि अज़ीज़ बर्नी की हकीकत खुद ही सबके सामने आ जाएगी। पार्टी के नेताओं का कहना है कि पीस पार्टी उनका इस्तेमाल कर रही है और बाद में उन्हें किनारे कर दिया जाएगा।

अज़ीज बर्नी ने एमआईएम प्रवक्ता अदील की शिकायत की