16 अगस्त को बिहार में पहली रैली करेंगे असदुद्दीन ओवैसी

किशनगंज, बिहार

एमआईएम सदर असदुद्दीन ओवैसी का रुख अब बिहार की तरफ है। असदुद्दीन ओवैसी 16 अगस्त बिहार के चुनावी बिगुल में एमआईम की पहली रैली को संबोधित करेंगे। सांसद ओवैसी की ये रैली बिहार के ज़िले किशनगंज में हो रही हैं। इस रैली पर एनडीए और जेडीयू के नेतृत्व वाले दोनों गठबंधनों की निगाहें लगी हैं। पूर्व विधायक अख्तरुल ईमान के नेतृत्व में रैली की तैयारियां ज़ोरो पर हैं।

बिहार विधान सभा का चुनावी बिगुल बज चुका है। सभी दल ज़ोर आज़माइश में लगे हैं। यहां मुकाबला दो गठबंधनों के बीच है। एक तरफ जेडीयू के नेतृत्व में आरजेडी, कांगेस हैं तो दूसरी तरफ बीजेपी के नेतृत्व वाला 6 दलों वाला एनडीए गठबंधन। ऐसे में एमआईएम की रैली पर सबकी निगाहें हैं। एमआईएम के चुनाव में उतरने न उतरने का एलान सांसद ओवैसी इस रैली कर सकते हैं। रैली से ये भी पता चलेगा कि बिहार में एमआईएम का जनाधार कितना बड़ा है। जानकारों का कहना है कि पार्टी इस बार शायद ही विधान सभा का चुनाव लड़े। दूसरी तरफ पार्टी से जुड़े नेता और कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि पार्टी यहां से चुनाव लड़ने का फैसला कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक एमआईएम कुछ सीमित सीटों पर ही चुनाव लड़ सकती हैं।

एमआईएम के अगले कदम पर सबसे ज़्यादा जेडीयू गठबंधन की निगाहें है। ये गठबंधन मुस्लिम वोट के सहारे दोबारा सत्ता में आने की कोशिश कर रहा है। अगर सांसद ओवैसी ने रैली में बिहार विधान सभा का चुनाव लड़ने का एलान किया तो सारे समीकरण बदल सकते हैं। वहीं नीतीश कुमार की राहें मुश्किल हो सकती हैं। बीजेपी इस मुद्दे पर चुप है।

एमआईएम सदर और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी अपनी पार्टी का लगातार विस्तार कर रहे हैं। महाराष्ट्र में पार्टी को मिली अप्रत्याशित जीत के बाद पार्टी का हौसला बुलंद हैं। वहीं दूसरी तरफ इस जीत ने सबका ध्यान पार्टी की तरफ खींचा है। उसके बाद पार्टी की निगाहें यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड समेत कई राज्यों की तरफ है। यूपी में रैली के लिए ओवैसी को कई बार शासन ने अनुमति देने से मना कर दिया हैं।