सऊदी अरब की इजराइल को धमकी

रियाद, सऊदी अरब

इजराइल के शहर यरुशलम की अल-अक्सा मस्जिद में नमाजियों पर हुए इजराइल के ज़ोरदार हमले की सऊदी अरब ने कड़ी निंदा की है। सऊदी किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज ने इजराइल को चेताया है कि इस तरह के हमले से क्षेत्र में तनाव बढ़ सकता है। सऊदी अरब के अखबार अरब न्यूज़ के मुताबिक सऊदी अरब ने इजराइल की कार्रवाई की शिकायत दुनिया के कई बड़े मुल्कों से की है।

File Photo
File Photo

सऊदी अरब के किंग सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, रुसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन, ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरुन और संयुक्त राष्ट्र प्रमुख बान की मून से फोन पर की है। सऊदी किंग ने यूएन सिक्योरिटी काउंसिल से हिंसा को रोकने, मस्जिद और फिलिस्तीन के नागरिकों को बचाने की मांग की है। किंग सलमान ने कहा है कि इस तरह की घटना दुनिया में हिंसा को बढ़ा सकती है। सऊदी अरब ने कहा है कि इजराइल की इस कार्रवाई से मुसलमानों के तीसरे सबसे बड़ी मस्जिद की पवित्रता भंग होती है, और यह अंतर्राष्ट्रीय कानून का भी उल्लंघन है।

दरअसल अल-अक्सा मस्जिद में इजरायली पुलिस के दाखिल होने के बाद तनाव बढ़ गया। इसके बाद फिलिस्तीनियों और पुलिसकर्मियों के बीच जबरदस्त झड़प हो गई। फिलिस्तीनी अधिकारियों ने बताया कि पुलिस मस्जिद में मौजूद लोगों को बाहर निकालने के लिए उनसे भिड़ गई। मस्जिद के बाहर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात कर दिए गए। बड़ी संख्या में फिलिस्तीनियों को गिरफ्तार किया गया है। यह गिरफ्तारियां तब हुई जब पुलिस ने यहूदियों के एक समूह को मस्जिद क्षेत्र में दाखिल होने से रोकने की कोशिश की। रविवार को तनाव उस समय और बढ़ गया जब इजराइल के कृषि मंत्री ओरी एरियल कई यहूदियों के साथ अल अक्सा के बरामदे में घुस गए। इसके बाद बड़ी संख्या में फिलिस्तीनी रात भर मस्जिद में रुके रहे। उनकी कोशिश थी कि पुलिस मस्जिद की तरफ जाने वाले दरवाजे को बंद न कर सके। जब पुलिस दरवाजा बंद करने आई तब फिलिस्तीनियों से उनकी झड़प हुई।

फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री महमूद अब्बास (File Photo)
फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री महमूद अब्बास (File Photo)

इस बीच फिलिस्तीनी अधिकारी ने चेतावनी दी है कि अगर पूर्वी यरूशलम में मौजूद अल-अक्सा मस्जिद परिसर को लेकर तनाव जारी रहा तो यह क्षेत्रीय धार्मिक युद्ध की वजह भी बन सकता है। फिलिस्तीन के न्यायाधीशों के प्रमुख महमूद हब्बाश ने कहा कि अल-अक्सा मस्जिद पर इजराइल के लगातार हमले साफ तौर से इलाके को एक धार्मिक युद्ध की तरफ धकेल रहे हैं। हब्बाश ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से अल-अक्सा मस्जिद को बांटने की इजरायल की कोशिशों पर तुंरत रोक लगाने की अपील की। उन्होंने यह भी कहा कि अल-अक्सा मस्जिद की हिफाज़त की ज़िम्मेदारी पूरे अरब जगत और मुसलमानों की है।

सऊदी अरब के किंग सलमान ने फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास को आश्वासन दिया है कि वह मस्जिद में हुए हमले को लेकर दुनिया के संपर्क में हैं। सऊदी अरब ने अपने विदेश मंत्री अदेल अल-ज़ुबेर को निर्देश दिए हैं कि वह अल-अक्सा मस्जिद की सुरक्षा के लिए हर संभव कदम उठाए।

अल-अक्सा मस्जिद
अल-अक्सा मस्जिद

दरअसल अल-अक्सा मस्जिद मुसलमानों का तीसरा सबसे पवित्र स्थल है। इसे हरम अल शरीफ भी कहा जाता है। यह मस्जिद यहूदियों के लिए भी काफी खास है। यहूदी इसे ‘टेंपल माउंट’ कहकर बुलाते हैं। इसलिए यह स्थान इजरइल और फिलस्तीन के बीच तनाव की वजह है। यहां इस तरह की हिंसा की घटनाएं होती रहती हैं।